Gram harvesting

चने की कटाई:- जब अधिकांश फली पीली हो जाएं तो चने की कटाई करनी चाहिये। चने में लगभग 15 प्रतिशत तक नमी रहनी चाहिये|

  • जब अधिकांश फली पीली हो जाएं तो चने की कटाई करनी चाहिये।
  • चने में लगभग 15 प्रतिशत तक नमी रहनी चाहिये|
  • जब पौधा सूख जाता हैंं, और पत्तियां लाल भूरे रंग की हो जाती हैंं,और पत्तियां गिरना शुरू हो जाती हैंं, तो फसल कटाई के लिए तैयार हो जाती हैंं।

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Management of pod borer in Gram(Chickpea)

चने में फली छेदक का प्रबंधन:- फली छेदक चने की एक कुख्यात कीट है जो फसल को भारी नुकसान पहुंचाता है। फली छेदक के कारण पैदावार का नुकसान 21% है। कीट के बारे में बताया जाता है कि चने को लगभग 50 से 60% नुकसान होता है|

चने में फली छेदक का प्रबंधन:- फली छेदक चने की एक कुख्यात कीट है जो फसल को भारी नुकसान पहुंचाता है। फली छेदक के कारण पैदावार का नुकसान 21% है। कीट के बारे में बताया जाता है कि चने को लगभग 50 से 60% नुकसान होता है| चना के अलावा कीट अरहर, मटर, सूरजमुखी, कपास, कुसुम, मिर्च, ज्वार, मूंगफली, टमाटर और अन्य कृषि और बागवानी फसलों पर भी हमला करता है। यह दालों और तिलहनों का एक विनाशकारी कीट है।

संक्रमण:- कीट की शुरूआत आमतौर पर अंकुरण के एक पखवाड़े के बाद होती है| और यह कली निकलने के शुरुआत के साथ बादल और उमस वाले मौसम में गंभीर हो जाती है। मादा अकेले कई छोटे सफेद अंडे रखती है 3-4 दिनों में अंडे से इल्लियाँ निकलती है, कोमला पत्तियों पर थोड़े समय के लिए खाती हैं और बाद में फली पर आक्रमण करते हैं। एक पूर्ण विकसित इल्ली लगभग 34 मिमी लंबे, हरी से भूरे रंग की हो जाती है मिट्टी में चली जाती है मिट्टी में यह प्यूपा बनजाती है| जीवन चक्र लगभग 30-45 दिनों में पूरा हो गया है। कीट एक साल में आठ पीढ़ियों को पूरा करता है।

प्रबंधन:- गर्मियों में गहरी जुताई करे जिससे जमीन में छिपे कीड़े को प्राकृतिक शिकारी खा सके| 0.5%  जिगरी और 0.1% बोरिक एसीड के साथ HaNVP 100 LE प्रति एकड़ की दर से अंडा सेने की अवस्था पर छिडकाव करे और 15-20 दिनों में दोहराएं। रसायनों के उपयोग में 2.00 मिलीलीटर प्रोफेनोफोस 50 ईसी प्रति लीटर पानी अंडानाशक के रूप में लेना चाहिए। फेरोमेन ट्रेप का उपयोग करे 4-5 ट्रेप प्रति हेक्टयर | शुरुआती अवस्था में नीम सीड करनाल सत 5% का स्प्रे करे | यदि संक्रमण अधिक होतो इंडोक्साकार्ब 14.5% SC 0.5 मिली या स्पिनोसेड 45% SC 0.1 मिली या 2.5 मिली क्लोरोपाईरीफास 20 EC प्रति ली. पानी के अनुसार छिडकाव करे | 4-5 पक्षी के बैठने का स्थान बनाये और फसल के चारो और भिन्डी और गेंदा सुरक्षा फसल के रूप में लगाए|

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Weed Management in Gram

चने में खरपतवार नियंत्रण:- चने की फसल में अनेक प्रकार के खरपतवार जैसे बथुआ, खरतुआ, मोरवा, प्याजी, मोथा, दूब इत्यादि उगते हैं। ये खरपतवार फसल के पौधों के साथ पोषक तत्वों, नमी, स्थान एवं प्रकाश के लिए प्रतिस्पर्धा करके …

चने में खरपतवार नियंत्रण:- 

  • चने की फसल में अनेक प्रकार के खरपतवार जैसे बथुआ, खरतुआ, मोरवा, प्याजी, मोथा, दूब इत्यादि उगते हैं।
  • ये खरपतवार फसल के पौधों के साथ पोषक तत्वों, नमी, स्थान एवं प्रकाश के लिए प्रतिस्पर्धा करके उपज को प्रभावित करते हैं। इसके अतिरिक्त खरपतवारों के द्वारा फसल में अनेक प्रकार की बीमारियों एवं कीटों का भी प्रकोप होता है जो बीज की गुणवत्ता को भी प्रभावित करते हैं।
  • खरपतवारों द्वारा होने वाली हानि को रोकने के लिए समय पर नियंत्रण करना बहुत आवश्यक है। चने की फसल में दो बार गुड़ाई करना पर्याप्त होता है। प्रथम गुड़ाई फसल बुवाई के 20-25 दिन पश्चात्‌ व दूसरी 50-55 दिनों बाद करनी चाहिये।
  • यदि मजदूरों की उपलब्धता न हो तो फसल बुवाई के तुरन्त पश्चात्‌ पैन्ड़ीमैथालीन 30 ई.सी. की 2.50 लीटर मात्रा को 500 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति हेक्ट खेत में समान रूप से छिड़काव करना चाहिये। फिर बुवाई के 20-25 दिनों बाद एक गुड़ाई कर देनी चाहिये। इस प्रकार चने की फसल में खरपतवारों द्वारा होने वाली हानि की रोकथाम की जा सकती है।

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share