Seed rate in green gram (Moong)

मुंग की बीज दर:- खरीफ के मौसम के लिए, बीज दर 8-9 किग्रा / एकड़ का उपयोग करें जबकि गर्मियों के मौसम में बीज की दर 12-15 किग्रा / एकड़ हैंं।

  • खरीफ के मौसम के लिए, बीज दर 8-9 किग्रा / एकड़ का उपयोग करें जबकि गर्मियों के मौसम में बीज की दर 12-15 किग्रा / एकड़ हैंं।

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Sowing method and seed rate of Bitter gourd

करेला की रोपाई की विधि एवं बीज दर :- करेले के बीज का आवरण कड़ा होता है, इसलिए 2-3 माह पुराने बीजों को रात भर के लिए ठंडे पानी में भिगोया जाता है। बीजों को अच्छे अंकुरण के लिए एक से दो दिन तक नम कपडे में लपेट कर रखा जाता है।

  • करेले के बीज का आवरण कड़ा होता है, इसलिए 2-3 माह पुराने बीजों को रात भर के लिए ठंडे पानी में भिगोया जाता है।
  • बीजों को अच्छे अंकुरण के लिए एक से दो दिन तक नम कपडे में लपेट कर रखा जाता है।
  • बीजों में अंकुरण के तुरन्त पश्चात ही गडढों में बो दिया जाता है।
  • प्रत्येक गडढे में 4-5 बीजों की बुवाई की जाती है।
  • 1.5 -2 किलों देशी बीज एक एकड़ भूमि के लिए पर्याप्त होते है। संकर एवं प्रायवेट कम्पनी के उन्नत बीज 400-600 ग्राम प्रति एकड़ लगते है| बीजदर किस्मों एवं लगाने के तरीकों पर निर्भर करती हैं|
  • बीज प्रायः सीधी बुवाई के द्वारा ही बोया जाता है।
  • प्रत्येक गडढों में 4-5 बीजों को 2 से.मी. गहराई में बोना चाहिये।

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Sowing method and seed rate of Bottle gourd

लौकी की बुवाई की विधि एवं बीजदर:-अच्छे अकुरण के लिये बीजों को बुवाई के पहले 24-48  घंटे पानी में डूबा कर रखे। एक एकड़ भूमि के लिये उन्नत किस्म के 1 से 1.5 कि. ग्राम बीज की आवश्यकता होती है। एक गढ्ढे में चार से पाँच बीजों को बोया जाता है।

  • अच्छे अकुरण के लिये बीजों को बुवाई के पहले 24-48  घंटे पानी में डूबा कर रखे।
  • एक एकड़ भूमि के लिये उन्नत किस्म के 1 से 1.5 कि. ग्राम बीज की आवश्यकता होती है।
  • एक गढ्ढे में चार से पाँच बीजों को बोया जाता है।
  • बीजों के अंकुरण के दो सप्ताह के बाद अस्वस्थ एवं छोटी वृद्धि वाले पौधों को उखाड़कर अलग कर देना चाहिये, ताकि प्रत्येक गढ्ढे में 2 से 3 स्वस्थ पौधे ही रहे।
  • संकर एवं प्राइवेट कम्पनी के किस्मों की बीज दर 300-500 ग्राम/एकड़ होती हैं| बीजदर किस्मों एवं लगाने के तरीकों पर निर्भर करती हैं|

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Seed rate of Muskmelon

खरबूज की बीज दर:- खरबूज की बीज दर उसको लगाने के तरीके और किस्म पर निर्भर करती हैं|

खरबूज की बीज दर उसको लगाने के तरीके और किस्म पर निर्भर करती हैं|

  • उन्नत एवं रिसर्च किस्में:- 1.5 -2 किलो/ एकड़ |
  • हाईब्रिड किस्में:- 200-400 ग्राम/ एकड़

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Seed rate of watermelon

तरबूज की बीज दर:- तरबूज की बीज दर उसको लगाने के तरीके और किस्म पर निर्भर करती हैं|

तरबूज की बीज दर उसको लगाने के तरीके और किस्म पर निर्भर करती हैं|

  • उन्नत एवं रिसर्च किस्में:- 1.5 -2 किलो/ एकड़ |
  • हाईब्रिड किस्में:- 300-500 ग्राम/ एकड़

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Time of Sowing, Spacing and Seed rate of Carrot

गाजर की बुवाई का सही समय,फसल अंतरण एवं बीज दर:- बुवाई का सही समय:- देशी किस्मो की बुबाई के लिए अगस्त-सितम्बर माह और यूरोपियन किस्मो के लिए अक्टूबर-नवंबर माह उपयुक्त होता है|…….

गाजर की बुवाई का सही समय,फसल अंतरण एवं बीज दर

  • बुवाई का सही समय:- देशी किस्मो की बुबाई के लिए अगस्तसितम्बर माह और यूरोपियन किस्मो के लिए अक्टूबरनवंबर माह उपयुक्त होता है|
  • फसल अंतरण:- पंक्ति से पंक्ति की दूरी  45 से.मी.और पौधे से पौधे के मध्य की दूरी  7. 5 से.मी रखना चाहिए  बीज को 1.5 से.मी.गहराई पर बोना चाहिए |
  • बीज दर: 4-5 कि.ग्रा बीज प्रति एकड़ उपयुक्त होता है |

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Sowing time, Planting and Seed Rate of Garlic

लहसुन लगाने का समय, लगाने का तरीका एवं बीज दर:- कलियों की चोपाई मध्य भारत में सितम्बर- नवम्बर तक की जाती हैं| लहसुन की कलियॉं को गाँठ से अलग कर लें यह काम बुआई के समय ही करें| कलियों का छिलका निकल जाने पर वह बुआई के लिए उपयुक्त नहीं होती हैं|

लहसुन लगाने का समय, लगाने का तरीका एवं बीज दर:-

  • कलियों की चोपाई मध्य भारत में सितम्बर- नवम्बर तक की जाती हैं|
  • लहसुन की कलियॉं को गाँठ से अलग कर लें यह काम बुआई के समय ही करें|
  • कलियों का छिलका निकल जाने पर वह बुआई के लिए उपयुक्त नहीं होती हैं|
  • कड़क गर्दन वाली लहसुन, जिसके एक एक कली कड़क और अलग अलग हो उपयुक्त होता हैं |
  • बड़ी कलियों (1.5 ग्राम से बड़ी) का चयन करना चाहिए| छोटे, रोग ग्रस्त एवं क्षति ग्रस्त कलियों को हटा दो |
  • लहसुन की बीज दर 400-500 किलो प्रति हे.
  • चयनित कलियों को 2 सेमी. की गहराई पर 15 X 10 सेमी. की दूरी पर लगना चाहिए|

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Spacing and Seed Rate of Pea

मटर की दूरी एवं बीज दर:-मटर को कतार से कतार में 30 से.मी. तथा बीज से बीज 10 से.मी. की दूरी पर बोना चाहिये । बीज को 2-3 से.मी. गहरी  बोना चाहिये । लगभग 100 कि.ग्रा.  बीज/हेक्टर पर्याप्त होता है ।

मटर की दूरी एवं बीज दर:-

  • मटर को कतार से कतार में 30 से.मी. तथा बीज से बीज 10 से.मी. की दूरी पर बोना चाहिये ।
  • बीज को 2-3 से.मी. गहरी  बोना चाहिये ।
  • लगभग 100 कि.ग्रा.  बीज/हेक्टर पर्याप्त होता है ।

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Land Preparation and Seed Rate for Okra Cultivation

भिन्डी के लिए भूमि की तैयारी एवं बीज दर:- दो बार गहरी जुताई करने के बाद दो या तीन बार बखर से भूमि को भुरभुरी एवं आवश्यकतानुसार पाटा चलाकर समतल बना लेना चाहिये। भारी भूमि में बुवाई मेढ़ पर करनी चाहिये। गोबर का खाद, कम्पोस्ट खाद एवं नीम केक …………..

भिन्डी के लिए भूमि की तैयारी एवं बीज दर:-

  • दो बार गहरी जुताई करने के बाद दो या तीन बार बखर से भूमि को भुरभुरी एवं आवश्यकतानुसार पाटा चलाकर समतल बना लेना चाहिये।
  • भारी भूमि में बुवाई मेढ़ पर करनी चाहिये। गोबर का खाद, कम्पोस्ट खाद एवं नीम केक इत्यादि का उपयोग कर उर्वरकों की मात्रा को कम किया जा सकता है।
  • ग्रीष्म कालीन फसल के लिये 7 से 8 कि.ग्रा. बीज/एकड़ की दर से बोना चाहिये।
  • वर्षा कालीन फसल के लिये बीज दर 3-4 कि.ग्रा.बीज/प्रति हेक्टेयर है।

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share

Seed rate and sowing time for Onion

प्याज की बीज दर व बुआई का समय – प्याज की खेती करने के लिए उचित बीज दर तथा बुआई के समय पर विशेष ध्यान दिया जाना बहुत ही जरुरी है अन्यथा उत्पादन पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है|……

प्याज की बीज दर व बुआई का समय –

प्याज की खेती करने के लिए उचित बीज दर तथा बुआई के समय पर विशेष ध्यान दिया जाना बहुत ही जरुरी है अन्यथा उत्पादन पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है|

बुआई का समय –

  • प्याज की खेती करने के लिए पहले प्याज की नर्सरी तैयार करना पड़ता है प्याज की नर्सरी रबी में दिसंबर माह में तैयार की जाती है तथा खेत में चौपाई जनवरी माह में की जाती है  
  • खरीफ में 15 जून से लेकर 15 जुलाई तक नर्सरी तैयार की जाती है तथा अगस्त के अंतिम सप्ताह में खेत में चौपाई की जाती है

प्याज की बीज दर –

  • सामान्यत: 8-10 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से बीज दर रखना चाहिए|  
  • 3 x 0.6 मीटर की 100 – 110 क्यारियाँ एक हेक्टेयर खेत की बुआई के लिए पर्याप्त होती है|
  • प्याज को सीधे खेत में छिडकाव के द्वारा भी बोया जाता है छिडकाव विधि में बीजदर 15 – 20 किलो ग्राम प्रति हेक्टेयर रखना चाहिये|

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके अन्य किसानों के साथ साझा करें।

0
Share